हिन्दी
दुनिया युवकों को इसलिए चाहती है कि वे होनहार होते हैं- गेटे

सर्वविदित है कि, भारत को युवाओं का देश कहा जाता है! देश में 60 प्रतिशत से अधिक आबादी युवाओं की ही है! विश्व में भारत के पास सब से अधिक युवा शक्ति है! इतिहास गवाह है कि, देश और दुनिया में जितने भी महत्वपूर्ण परिवर्तन हुए हैं उन सभी में युवाओं की सक्रीय भागीदारी रही है! देश का भविष्य युवाओं के हाथों में है! युवा वर्ग ही देश के विकास की कुंजी है! यह वह शक्ति है जो देश में सामाजिक,आर्थिक तथा राजनितिक सकारात्मक बदलाव लाने में पूरी तरह सक्षम है! हमें गर्व होता है अपनी युवा शक्ति पर! स्वामी विवेकानंद जी ने कहा था कि, युवा ही देश की वास्तविक शक्ति है! किन्तु यह भी एक कटु सत्य है कि, युवाओं को लेकर आज हमारे समाज में एक नकारात्मक तस्वीर बन कर सामने रही है! आज अगर हम युवा वर्ग को लेकर ज़मीनी हकीकत पर नज़र डालते हैं तो पता चलता है कि, युवाओं में धैर्य की कमी, नशा, लालच, हिंसा, कामुकता जैसी अनेक खराबियां उनकी ज़िन्दगी का हिस्सा बनती जा रही हैं जो देश के भविष्य के लिए अच्छी बात नहीं है! यह भी कहा जाता है कि, आज का युवा वर्ग किसी की नहीं सुनता है और अपनी मनमानी करता नज़र आता है!  लोग यह भी कहते हैं कि, आज का युवा बेरोज़गार और परेशान हाल इसलिए है कि, वह दीशाहीन तथा उद्देश्यहीन है!

पहली बात तो यह कि, यह शत प्रतिशत सच नहीं है, लेकिन ऐसा भी नहीं है कि, यह बिलकुल ग़लत है! इसमें कोई दो राय नहीं कि, आज का युवा पथ विचलित हुआ है किन्तु, अगर हम पाश्चात्य संस्कृति पर नज़र डालते हैं तो बड़ी निराशा होती है! क्योंकि अक्सर वहां युवाओं को पथभ्रष्ट होते देखा जा सकता है! हमारे देश में भी नशीली चीज़ें, नग्नता तथा अन्य व्यसन एक ज़हर की तरह युवा शक्ति को खोखला करती दिखाई देती हैं! किन्तु पश्चिम की तरह भारत में यह महामारी के रूप में नहीं है! हाँ इतना ज़रूर है कि, देश में युवा शक्ति के बर्बाद होने के कारण मौजूद हैं!

युवा शक्ति के महत्त्व से कोई भी इनकार नहीं कर सकता है, किन्तु युवा नामक उर्जा का सही इस्तेमाल उस वक़्त संभव होता है, जब वास्तव में युवा शक्ति के पास देश एवं समाज के प्रति सकारात्मक सोच हो तथा वर्तमान परिदृश्य में युवाओं के प्रति समाज की ज़िम्मेदारी बहुत अहम् हो जाती है!

यह बात सच है कि, आज समाज में युवाओं में नेगेटिव सोच बढ़ रही है! मुल्क में बेरोज़गारी और भ्रष्टाचार ने युवाओं पर नकारात्मक प्रभाव डाला है! इन हालात में सिविल सोसाइटी और समाज का यह फ़र्ज़ बनता है कि, युवाओं को दीशाहिनता एवं उद्देश्यहीनता से बचाएं! अगर हम मुल्क की युवा शक्ति का समुचित रूप से इस्तेमाल न कर सके तो यह हमारे लिए एक बड़ी त्रासदी साबित होगी!

आज समाज के लिए यह ज़रूरी हो गया है कि, “युवाओं की क्षमताओं को पहचाने और उन्हें सशक्त बनाने का काम करे! ज़रुरत इस बात की भी है कि, युवाओं के चरित्र निर्माण करने तथा व्यक्तित्व विकास के साथ साथ लीडरशिप क्वालिटी डेवेलप करने पर ज़ोर दिया जाए! क्योंकि ऐसा ही कर के हम उन्हें देश का ज़िम्मेदार नागरिक बना सकते हैं! मोबाइल और इन्टरनेट के बढ़ते ग़लत इस्तेमाल ने हमारे युवाओं के भविष्य पर एक सवालिया निशान ज़रूर लगाया है, लेकिन हम अपने युवाओं को टेक्नोलॉजी से लाभान्वित होने के लिए मोटीवेट करके इसके नकारात्मक प्रभाव से मुक्ति दिलाने का काम ज़रूर कर सकते हैं!

देश के युवाओं के लिए प्रेरणा स्रोत रहे स्वामी विवेकानंद जी ने भी युवाओं को मन और शरीर को स्वस्थ बनाने की सलाह दी थी! अगर तन और मन सेहतमंद नहीं होगा तो युवा देश क्या ख़ुद के लिए कुछ नहीं कर सकता और घर-परिवार से लेकर समाज तक पर एक बोझ रहेगा! और आज युवाओं में जितनी भी खराबियां पाई जाती हैं, उनसे उनका तन और मन बीमार ही होता है!

आज युवाओं को भी ख़ुद यह बात समझनी होगी कि, वह घर-परिवार से लेकर देश तक के लिए एक आशा है! एक ऐसी आशा जो मुल्क से ग़रीबी, बीमारी, भ्रष्टाचार और अन्य खराबियों को दूर कर के देश को विकास के मार्ग पर चलाने वाला है! युवाओं को भी अपनी जिम्मेदारियां समझनी होंगी!

जर्मन विचारक एवं लेखक गेटे ने कहा कि दुनिया युवकों को इसलिए चाहती है कि वे होनहार होते हैं। अगर आज का युवा चाहता है कि, लोग उस से प्यार करें तो उसे भी होनहार बनना होगा!  स्वामी विवेकानंद जी ने ही कहा था कि, उठो, जागो और तब तक नहीं रुको जब तक लक्ष्य प्राप्त नहीं हो जाए! युवाओं को देश के लिए उठना और जागना होगा! उठने से मेरा मतलब यह है कि, उन्हें देश हित के लिए कृतसंकल्प हो कर अपने चरित्र निर्माण और व्यक्तित्व विकास के लिए प्रयासरत होना होगा! जागने का मतलब यह है की उन्हें समाज में मौजूद तमाम नकारात्मक प्रभाव डालने वाली चीज़ों के प्रति सचेत होना होगा! अगर यह दो चीज़ें न हो पायीं तो वह अपने लक्ष्य से हमेशा दूर ही रहेंगे और समाज को उनके प्रति केवल निराशा ही हाथ लगेगी!

About the author

Profile photo of admin

Related Post

Leave a Reply